Ae mere watan ke logo zara aankh me bharlo pani lyrics

Ae mere watan ke logo zara aankh me bharlo pani lyrics

ऐ मेरे वतन के लोगों, तुम खूब लगा लो नारा

ये शुभ दिन है हम सबका, लहरा लो तिरंगा प्यारा

पर मत भूलो सीमा पर, वीरों ने है प्राण गवाये

कुछ याद उन्हें भी कर लो, कुछ याद उन्हें भी कर लो

जो लौट के घर न आये, जो लौट के घर न आये

ऐ मेरे वतन के लोगों, ज़रा आँख में भर लो पानी

जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

जब घायल हुआ हिमालय, ख़तरे में पड़ी आज़ादी

जब तक थी साँस लडे वो, फिर अपनी लाश बिछा दी 

संगीन पे धर कर माथा, सो गये अमर बलिदानी

जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

जब देश में थी दीवाली, वो खेल रहे थे होली

जब हम बैठे थे घरों में, वो झेल रहे थे गोली

थे धन्य जवान वो अपने, थी धन्य वो उनकी जवानी

जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

कोई सिख कोई जाट मराठा, कोई गुरखा कोई मद्रासी 

सरहद पर मरनेवाला, हर वीर था भारतवासी

जो खून गिरा पर्वतपर, वो खून था हिन्दुस्तानी

जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

थी खून से लथपथ काया, फिर भी बंदुक उठाके

दस दस को एक ने मारा, फिर गिर गये होश गँवा के

जब अंत समय आया तो, कह गये के अब मरते हैं

खुश रहना देश के प्यारों, अब हम तो सफ़र करते हैं

क्या लोग थे वो दीवाने, क्या लोग थे वो अभिमानी

जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

तुम भूल ना जाओ उनको इसलिए कही ये कहानी

जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

जय हिंद, जय हिंद की सेना

जय हिंद, जय हिंद की सेना

Ai mere watan ke logon, tum khub laga lo naara

Ye shubh din hai ham sabaka, lahara lo tirnga pyaara

Par mat bhulo sima par, wiron ne hai praan gawaaye

Kuchh yaad unhen bhi kar lo, kuchh yaad unhen bhi kar lo

Jo laut ke ghar n aye, jo laut ke ghar n aye

Ai mere watan ke logon, jra ankh men bhar lo paani

Jo shahid hue hain unaki, jra yaad karo kurbaani

Jab ghaayal hua himaalay, khtare men padi ajaadi

Jab tak thi saans lade wo, fir apani laash bichha di 

Sngin pe dhar kar maatha, so gaye amar balidaani

Jo shahid hue hain unaki, jra yaad karo kurbaani

Jab desh men thi diwaali, wo khel rahe the holi

Jab ham baithhe the gharon men, wo jhel rahe the goli

The dhany jawaan wo apane, thi dhany wo unaki jawaani

Jo shahid hue hain unaki, jra yaad karo kurbaani

Koi sikh koi jaat maraathha, koi gurakha koi madraasi 

Sarahad par maranewaala, har wir tha bhaaratawaasi

Jo khun gira parwatapar, wo khun tha hindustaani

Jo shahid hue hain unaki, jra yaad karo kurbaani

Thi khun se lathapath kaaya, fir bhi bnduk uthhaake

Das das ko ek ne maara, fir gir gaye hosh gnwa ke

Jab ant samay aya to, kah gaye ke ab marate hain

Khush rahana desh ke pyaaron, ab ham to safr karate hain

Kya log the wo diwaane, kya log the wo abhimaani

Jo shahid hue hain unaki, jra yaad karo kurbaani

Tum bhul na jaao unako isalie kahi ye kahaani

Jo shahid hue hain unaki, jra yaad karo kurbaani

Jay hind, jay hind ki sena

Jay hind, jay hind ki sena


Leave a Reply