You are currently viewing Chal Jindiye Lyrics – Amrinder Gill

Chal Jindiye Lyrics – Amrinder Gill

Chal Jindiye Lyrics – Amrinder Gill

Punjabi Song Lyrics in Hindi

चल जिंदीये चल जिंदीये
चल उठ चलिये
तुर चलिये एस जहानों
उस नगर वल दूर कुड़े (X2)

मन मंदिर विच स्याहः हनेरा
करिए नूरो नूर कुड़े (नूर कुड़े)

चल जिंदीये चल जिंदीये
चल उठ चलिये
तुर चलिये एस जहानों
उस नगर वल दूर कुड़े

चल जिंदीये चल जिंदीये
चल उठ चलिये
तुर चलिये एस जहानों
उस नगर वल दूर कुड़े

उस नगर दरबान सखत कुज
नाल ले जान नी देंदे
होम्मे दी पंड बहार लवा लैन
अंदर लेयौन नी देंदे

उस नगर दरबान सखत कुज
नाल ले जान नी देंदे
होम्मे दी पंड बहार लवा लैन
अंदर लेयौन नी देंदे

एह गठड़ी पार सिरे ते
लाके सुट्ट गुमान कुड़े

चल जिंदीये चल जिंदीये
चल उठ चलिये
तुर चलिये एस जहानों
उस नगर वल दूर कुड़े

चल जिंदीये चल जिंदीये
चल उठ चलिये
तुर चलिये एस जहानों
उस नगर वल दूर कुड़े

चल जिंदीये चल उड़ चलिये
कित्ते खंब लगा के गीता दे
ना सच ते झूठ दा तर्क होवे
ना रब्ब बंदे विच फरक होवे
ना चक्कर पुन्न पलितां दे

उस नगर वल तुर्रदे जेहड़े
मुड़ दे नहीं दीवाने
ज्यों घर जाके इक हो जानदे
अग्गा विच परवाने

उस नगर वल तुर्रदे जेहड़े
मुड़ दे नहीं दीवाने
ज्यों घर जाके इक हो जानदे
अग्गा विच परवाने

जो शीशा याद करौंदे
भन्न के करदे चूर कुड़े

चल जिंदीये चल जिंदीये
चल उठ चलिये
तुर चलिये एस जहानों
उस नगर वल दूर कुड़े

चल जिंदीये चल जिंदीये
चल उठ चलिये
तुर चलिये एस जहानों
उस नगर वल दूर कुड़े

Written By: Bir Singh


Leave a Reply