You are currently viewing Ghar Se Nikalte Hi Song Lyrics in Hindi | English | Udit Narayan

Ghar Se Nikalte Hi Song Lyrics in Hindi | English | Udit Narayan

Ghar Se Nikalte Hi Song Lyrics in Hindi | English | Udit Narayan

घर से निकलते ही कुछ दूर चलते ही
रस्ते मैं है उसका घर
कल सुबह देखा तो बाल बनाती वो
खिड़की मैं आई नज़र
घर से निकलते ही कुछ दूर चलते ही
रस्ते मैं है उसका घर
कल सुबह देखा तो बाल बनाती वो
खिड़की मैं आई नज़र
घर से निकलते ही

मासूम चगरा नीची निगाहें
भोली सी लड़की बोली आदयण
न अप्सरा है न वो पारी है
लेकिन यह उसकी जादूगरी है
दीवाना कर दे वो इक रंग भर दे वो
शर्मा के देखे जिधर
घर से निकलते ही कुछ दूर चलते ही
रस्ते मैं है उसका घर

करता हूँ उसके घर के मैं फेरे
हंसने लगे हैं अब दोस्त मेरे
सच कह रहा हूँ उसकी की कसम है
मैं फिर भी खुश हूँ बस एक गम है
जिससे प्यार करता हूँ मैं जिसपे मरता हूँ
उसको नहीं है खबर
घर से निकलते ही कुछ दूर चलते ही
रस्ते मैं है उसका घर

लड़की है जैसे कोई पहेली
कल जो मिली मुझको उसकी सहेली
मैंने कहा उसको जेक यह कहना
अच्छा नहीं है यूँ दूर रहना
कल शाम निकले वो घर से टहलने को
मिलना जो चाहे अगर
घर से निकलते ही कुछ दूर चलते ही
रस्ते मैं है उसका घर
कल सुबह देखा तो बाल बनाती वो
खिड़की मैं आई नज़र.

Ghar se nikalte hi kuch door chalte hi
Raste main hai uska ghar
Kal subah dekha to baal banati vo
Khidki main aayi nazar
Ghar se nikalte hi kuch door chalte hi
Raste main hai uska ghar
Kal subah dekha to baal banati vo
Khidki main aayi nazar
Ghar se nikalte hi

Masoom chegra neechi nigahain
Bholi se ladki bholi aadayan
Na apsara hai na vo pari hai
Lekin yeh uski jadoogari hai
Deewana kar de vo ik rang bhar de vo
Sharma ke dekhe jidhar
Ghar se nikalte hi kuch door chalte hi
Raste main hai uska ghar

Karta hoon uske ghar ke main phere
Hansne lage hain ab dost mere
Sach kah raha hoon uski ki kasam hai
Main phir bhi khush hoon bus ek gam hai
Jisse pyaar karta hoon main jispe marta hoon
Usko nahi hai khabar
Ghar se nikalte hi kuch door chalte hi
Raste main hai uska ghar

Ladki hai jaise koi paheli
Kal jo mili mujhko uski saheli
Maine kaha usko jake yeh kahna
Achha nahi hai yoon door rahna
Kal shaam nikle vo ghar se tahelne ko
Milna jo chahe agar
Ghar se nikalte hi kuch door chalte hi
Raste main hai uska ghar
Kal subah dekha to baal banati vo
Khidki main aayi nazar.


Leave a Reply